राहत इंदौरी श्रद्धांजलि :पढे उनके कुछ यादगार शेर ,शायरी

नई दिल्ली | rahat indori news– मशहूर शायर राहत इंदौरी अब इस दुनिया में नहीं रहे ,आज 11 अगस्त 2020 को उन्होंने अंतिम सांस ली | राहत इंदौरी शायरी की दुनिया में अपना अलग ही मुकाम रखते थे .राहत इंदौरी का अंदाज तो निराला था |

राहत इंदौरी साहब ने मुशायरों और कवि सम्मेलन के जरिए देश और दुनिया के करोड़ों लोगों का दिल जीता . शायरी करने के अलावा राहत इंदौरी ने कई फिल्मों में गाने भी लिखे हैं | आइए उनके कुछ यादगार शेर के बारे में जानते हैं | rahat indori news in hindi

पढ़े : एपीजे अब्दुल कलाम के अनमोल वचन

Top 10 rahat indori Sher (राहत इंदौरी शेर)

 

1) हम अपनी जान के दुश्मन को अपनी जान कहते हैं मोहब्बत की इसी मिट्टी को हिंदुस्तान कहते हैं

2) नए किरदार आते जा रहे हैं मगर नाटक पुराना चल रहा है

3) बहुत गुरूर है दरिया को अपने होने पर ,जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियां उड़ जाए

4) तूफानों से आंख मिलाओ ,सैलबों पर वार करो ,मल्लाहों का चक्कर छोड़ो ,तैर के दरिया पार करो

5) ए ज़मीं इक रोज तेरी खा़क में खो जाएंगे ,सो जाएंगे ,मर के भी ,रिश्ता नहीं टूटेगा हिंदुस्तान से …ईमान से …

6) उस की याद आई है ,साँसो जरा आहिस्ता चलो ,धड़कनों से भी इबादत में खलल पड़ता है

7) दोस्ती जब किसी से की जाए ,दुश्मनों की भी राय ली जाए

8) ये जरूरी है कि आँखों का भरम का़एम रहे ,नींद रक्खो या न रक्खो ,ख़्याब में यारी रखो

9) इक मुलाका़त का जादू कि उतरता ही नहीं ,तेरी खुशबू मेरी चादर से नहीं जाती है

10) हम से पहले भी मुसाफी़र कई गुज़रे होगे ,कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते

 

पढ़ें : विद्यार्थियों के बारे में चाणक्य नीति

Rahat Indori Shayari ,Quotes,Status,poetry in hindi images

 

  1. “यह हादसा तो किसी दिन गुजरने वाला था ,मैं बच भी जाता तो एक रोज मरने वाला था “
  2. “मैं मर जाऊं तो मेरी अलग पहचान लिख देना ,लहू से मेरी पेशानी पे हिंदुस्तान लिख देना …”
  3. ” यूं तो तमाम शेर पढ़ा लिखा सुना जाएगा पर तेरे जैसा पढ़ने का अंदाज कौन लाएगा “
  4. ” बुलाती है मगर जाने का नहीं
    ये दुनिया है इधर जाने का नहीं
    मेरे बेटे किसी से इश्क कर
    मगर हद से गुजर जाने का नहीं “
  5. ” उँगुलियां यूँ न सब पर उठाया करो
    खर्च करने से पहले कमाया करो
    जिंदगी क्या है खुद ही समझ जाओगे बारिशों में पतंगें उड़ाया करो “
  6. ” अब ना मैं हूं ,ना बाकी है जमाने मेरे, फिर भी मशहूर हूं ,शहर में फंसाने मेरे “
  7. ” जनाजे पर मेरे लिख देना यारों मोहब्बत करने वाला जा रहा है …”
  8. ” ऊंचे ऊंचे दरबारों से क्या लेना
    नंगे भूखे बेचारों से क्या लेना
    अपना मालिक अपना खालिक़, अफजल है आती जाती सरकारों से क्या लेना “
  9. “कभी दिमाग ,कभी दिल ,कभी नजर में रहो ,ये सब तुम्हारे ही घर है किसी भी घर में रहो “

Read this:-

Leave a Reply