एकात्म मानववाद के प्रणेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती आज

नई दिल्ली । पंडित दीनदयाल उपाध्याय की आज 105 वी जयंती है । उनका जन्म 25 सितंबर 1916 को मथुरा जनपद के नगला चंद्रभान में पंडित भगवती प्रसाद उपाध्याय के घर में हुआ था । दीनदयाल उपाध्याय जब 1937 में कानपुर में सनातन धर्म कॉलेज से बीए कर रहे थे अपनी एक दोस्त के माध्यम से पहली बार वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संपर्क में आए . उन्होंने 1939 से 1942 में संघ की शिक्षा का प्रशिक्षण लिया था और इस प्रशिक्षण के बाद ही उन्हें प्रचारक बनाया गया था ।

जनसंघ से जुड़ाव

1951 में जब श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने भारतीय जनसंघ की स्थापना की तो दीनदयाल उपाध्याय को से जुड़ने के लिए कहा गया और वह जनसंघ के सह-संस्थापक बन गये । 1967 में वह जनसंघ के अध्यक्ष बने ।

रहस्यमय परिस्थितियों में मौत

10 फरवरी 1968 को पंडित दीनदयाल उपाध्याय लखनऊ से सियालदह एक्सप्रेस मैं पटना जाने के लिए रेल में चढ़े . लेकिन जब ट्रेन रात करीब 2:15 बजे मुगलसराय स्टेशन पर पहुंची तो उनको ट्रेन के पास पटरियों पर मृत पाया गया ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सत्ता में आने के बाद दीनदयाल उपाध्याय के नाम से कई योजनाएं शुरू की । 2016 में उनका जन्म शताब्दी वर्ष मनाया गया तथा अगस्त 2017 में उनके सम्मान में मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलकर उनके नाम पर करने की घोषणा की गई ।

 

Leave a Reply